हज़ारों की जिंदगी तबाह करने पर तुले थे ये दरिंदे मगर जालंधर पुलिस ने ध्वस्त कर डाले इन के खतरनाक इरादें.





 

जालंधर(PLN) पंजाब को नशे की दलदल में धकेलने वाले नशा तस्करों पर अभी भी पूरी तरह से लगाम नही लगा है। नशा तस्कर पंजाब के युवाओं को मौत के मुह में धकेल उन की जिंदगी तबाह करने पर तुले हुए है। 

पंजाब को नशा मुक्त राज्य बनाने के लिए कड़ी कार्रवाई करते हुए काउंटर इंटैलिजेंस विंग जालंधर ने जिला कपूरथला के पुलिस थाना सुल्तानपुर लोधी से एक किलोग्राम हैरोइन सहित दो तस्करों को गिरफ्तार कर अंतराष्ट्रीय ड्रग रैकेट का भंडाफोड़ कर इन नशा तस्करों के खतरनाक इरादे ध्वस्त किए है। 

गिरफ्तार आरोपियों की पहचान गुरविंदर सिंह पुत्र स्वर्ण सिंह निवासी गांव नूरपुर हकीमा, धर्मकोट मोगा और उसके सहयोगी रंजीत सिंह पुत्र मुख्तियार सिंह निवासी वार्ड नंबर 01 मेहतपुर जालंधर के रूप में हुई है।

एक प्रैस रिलीज में, ए.आई.जी. काउंटर इंटेलिजेंस जालंधर श्री हरकमलप्रीत सिंह खख ने कहा की विंग को सुचना मिली कि गुरविंदर सिंह जो दिल्ली निवासी नीग्रो तस्करों के संपर्क में है। आज वह अपने एक सहयोगी रंजीत सिंह के साथ एक टाटा सूमो कार नंबर PB29P8895 में हेरोइन की एक बड़ी खेप दिल्ली से लेकर शेरपुर दोना से तलवंडी माधो क्षेत्र में अन्य तस्करों को बेचने आ रहा है, अगर उचित तलाशी की जाती है तो दोनों तस्करों को भारी मात्रा में हेरोइन के साथ पकड़ा जा सकता है।

सुचना मिलते ही श्री खख ने तुरंत इस जानकारी को एस.एस.पी. कपूरथला श्री सतिंदर सिंह जी के साथ साझा कर काउंटर इंटेलिजेंस विंग और पुलिस स्टेशन सुल्तानपुर लोधी की पुलिस पार्टी की एक संयुक्त टीम स्थापित कर तस्करों को खेप के साथ गिरफ्तार करने के निर्देश देते हुए क्षेत्र में तेनात किया।

“निर्देशों के अनुसार, पुलिस पार्टी ने क्षेत्र में सर्च अभियान चलाया और चेकिंग के दोरान उस टाटा सूमो कार को सफलतापूर्वक रोक कर दो तस्करों को पकड़ लिया।

ए.आई.जी. ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों की प्रारंभिक पूछताछ में आरोपियों ने बताया है कि वह दोनों पिछले कुछ वर्षों से नशीले पदार्थों की तस्करी के अवैध व्यपार में शामिल हैं। वे पहले भी ही नशीले पदार्थों की तस्करी के मामलों में गिरफ्तार किये गए है और जेलों में भी बंद रहे है।

उन्होंने आगे कहा कि गुरविंदर सिंह इस साल अप्रैल में जेल से बाहर आया था, जबकि उसके सहयोगी रंजीत सिंह को दिसंबर 2018 में जमानत मिली थी। जेलों में वे नाइजीरियाई तस्करों से मिले थे और जेल से रिहा होने के बाद, उन्होंने नाइजीरियाई विक्टर से संपर्क किया, जो है एनडीपीएस अधिनियम में कपूरथला जेल में बंद है

और विक्टर के इशारे पर उन्होंने दिल्ली से पंजाब तक हेरोइन की तस्करी करनी शुरू कर दी।

ए.आई.जी. ने बताया कि गिरफ्तार तस्करों को पुलिस द्वारा मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाएगा और पुलिस रिमांड की मांग की जाएगी जो इस मामले की जांच पूरी कर इस रैकेट के अन्य सदस्यों को गिरफ्तार किया जा सके। रैकेट के किंगपिन विक्टर को भी कानूनी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद, उपरोक्त एनडीपीएस अधिनियम मामले में गिरफ्तार किया जाएगा और पुलिस रिमांड पर लिया जाएगा।

ए.आई.जी. ने आगे बताया कि राष्ट्रीय राजधानी में इस मॉड्यूल के पूर्ण नेटवर्क का भंडाफोड़ करने के लिए एस.टी.एफ. के साथ पूरी जानकारी सांझा की गयी है।

error: Content is protected !!